Thursday, November 11, 2010

jara sochiye

जरा सोचिये ,......
हम पेड़ों को काट रहे है, एक दिन ऐसा आयेगा जब परिंदों को पेंड़ो के बजाय बिजली के खम्भों पर अपने बसेरे बनाने पड़ेगें ?

No comments:

Post a Comment